दिमाग तेज करने के लिए सबसे अच्छा योगासन कौन सा है?

0
1228
Yoga-Asanas-To-Improve-Memory-Power
Yoga-Asanas-To-Improve-Memory-Power

हमारे दिमाग को तेज करने के लिए योग (Yoga for brain) सबसे बेहतर विकल्प होता है|

Yoga Asanas To Improve Memory Power In Hindi

योग आपको मानसिक एवं भौतिक रूप से स्वस्थ बना देगा, ये निश्चित है। दिमाग को स्वस्थ करने के लिए दो योग क्रियाओं का प्रयोग किया जा सकता है

  • शीर्षासन
  • मैडिटेशन 
  • अनुलोम विलोम

Dimag ke liye Yoga

ये सभी आपके दिमाग को स्वस्थ बना देंगे। लेकिन साथ साथ अगर आप कुछ दिमागी क्रियाए करे जैसे-

Dimag tej karne ki Exercise

  • शतरंज खेले
  • Calculator का प्रयोग कम से कम करे
  • Puzzle सॉल्व करे
  • Sudoku खेले
  • मोबाइल नम्बर याद रखे एवं कॉल करे लिखकर मिलाए

मतलब ये है कि आप दिमाग को थोड़ा खर्च किया करो, जितना खर्च करोगे यह उतना ही बढेगा ।

रिसर्च बताती है एक इंटेलिजेंट (आइंस्टाइन) व्यक्ति भी अपने दिमाग का 10% ही इस्तेमाल करते थे |

शीर्षासन क्या है ?

अगर आप लंबे समय तक जवान और युवा  बने रहना चाहते हैं तो शीर्षासन आपके लिए एकदम पर्फेक्ट आसन है। इस आसन को आसनों का राजा कहा जाता है। यह आसन पेट संबंधी बीमारियों से छुटकारा दिलाता है। शरीर हष्ट-पुष्ट बनता है। असमय बालों का झड़ना और सफेद होना रोकता है। इसके अलावा इस आसन के और भी कई फायदे है

shirshasana

शीर्षासन संस्कृत के दो शब्दों शीर्ष और आसन से मिलकर बना है। शीर्ष का अर्थ सिर और आसन का अर्थ मुद्रा है। योग आसनों का राजा है शीर्ष आसन।

शीर्षासन से क्या लाभ होता है?

शीर्षासन रोगप्रतिरोधक क्षमता और कार्यक्षमता को बढ़ाकर आपको एनेर्जेटिक बनाता है। दिमाग में ब्लड सर्कुलेट करता है। 2- पिट्यूटरी और पीनियल ग्रंथियों का स्राव नियमित करता है। स्मरण शक्ति, एकाग्रता, उत्साह, स्फूर्ति, निडरता, आत्मविश्वास और धैर्य बढ़ाता है

शीर्षासन योग कैसे करें?

वैसे पहले पहले लोग इस आसन के अभ्यास से घबराते हैं। लेकिन इसके करने के तरीके पता हो तो इसको बहुत आसानी के साथ प्रैक्टिस किया जा सकता है। और इस योग का ज़्यदा से ज़्यदा फायदा उठाने के लिए जरूरी है इसको सही विधि के साथ किया जाए। यहां पर आपको शीर्षासन के सरल तरीके बताये जा रहे हैं।

शीर्षासन करने की  विधि

  • सबसे पहले आप अपने योग मैट के आगे बैठ जाए।
  • अब आप अपने अंगुलियों को इन्टर्लाक करें और अपने सिर को उस पर रखें।
  • धीरे धीरे अपने पैरों को इन्टर्लाक अंगुलियों का मदद लेते हुए ऊपर उठायें और इसे सीधा करने की कोशिश करें।
  • शरीर का पूरा भार अब आप इन्टर्लाक किये हुए अंगुलियों और सिर पर लें।
  • इस अवस्था में कुछ देर तक रुकें और फिर धीरे धीरे घुटनों को मुड़ते हुए पैरों को नीचे लेकर आयें।
  • यह एक चक्र हुआ।
  • आप इसे 3 से 5 बार कर सकते हैं

शीर्षासन से सावधानी

  • जिनको उच्च रक्तचाप हो उन्हें यह आसन नहीं करनी चाहिए।
  • आरंभ में कम अवधि के लिए यह आसन करना चाहिए।
  • हृदय रोग से पीड़ित लोगों को इस आसन के करने से बचना चाहिए।
  • सर्वाइकल स्पॉण्डिलाइटिस के रोगियों को यह आसन नहीं करना चाहिए।
  • शर्दी एवं अत्यधिक जुकाम के हालात में इस आसन को मत करें।
  • कान बहने की शिकायत होने पर भी इस आसन के करने से बचना चाहिए।

अगर आपको यह पोस्ट अच्छा लगा हो तो इसे facebook और Whatsapp पर जरूर Share करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट Best Wishes हिंदी  के साथ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here