जिन्दगी की प्राथमिकता

1
859

मनोविज्ञान के एक प्रोफ़ेसर ने कुछ चीजों के साथ कक्षा में प्रवेश किया. जब कक्षा शुरू हुई तो उन्होंने एक बड़ा सा खाली शीशे का जार लिया और उसमे पत्थर के बड़े-बड़े टुकड़े भरने लगे. फिर उन्होंने छात्रों से पूछा कि क्या जार भर गया है ? और सभी ने कहा “हाँ”

तब प्रोफ़ेसर ने छोटे-छोटे कंकडों से भरा एक बॉक्स लिया और उन्हें जार में भरने लगे. जार को थोडा हिलाने पर ये कंकड़ पत्थरों के बीच बराबर बैठ गए. एक बार फिर उन्होंने छात्रों से पूछा कि क्या जार भर गया है?  और सभी ने हाँ में उत्तर दिया.

फिर प्रोफ़ेसर ने समझाना शुरू किया, “मैं चाहता हूँ कि आप इस बात को समझें कि ये जार आपकी जीवन को प्रस्तुत करता है. बड़े-बड़े पत्थर आपके जीवन की ज़रूरी चीजें हैं- आपका परिवार ,आपका जीवनसाथी ,आपका स्वास्थ्य , आपके बच्चे – ऐसी चीजें कि अगर आपकी बाकी सारी चीजें खो भी जाएँ और सिर्फ ये रहे तो भी आपकी ज़िन्दगी पूर्ण रहेगी.

People Crazy Enough to Change the World

ये कंकड़ कुछ अन्य चीजें हैं जो प्रस्तुत करती हैं- जैसे कि आपकी नौकरी , आपका घर, इत्यादि.

और ये रेत बाकी सभी छोटी-मोटी चीजों को दर्शाती है.

अगर आप जार को पहले रेत से भर देंगे तो कंकडों और पत्थरों के लिए कोई जगह नहीं बचेगी. यही आपकी जिन्दगी साथ होता है. अगर आप अपनी सारा समय और उर्जा छोटी-छोटी चीजों में लगा देंगे तो आपके पास कभी उन चीजों के लिए समय नहीं होगा जो आपके लिए महत्वपूर्ण हैं. उन चीजों पर ध्यान दीजिये जो आपकी ख़ुशी के लिए ज़रूरी हैं.बच्चों के साथ खेलिए, अपने जीवनसाथी के साथ कुछ पल ख़ुशी के बिताइये और उनके साथ कुछ कार्य में सहयोग कीजिये. काम पर जाने के लिए, घर साफ़ करने के लिए, पार्टी देने के लिए,  हमेशा वक़्त होगा. पर पहले पत्थरों पर ध्यान दीजिये – ऐसी चीजें जो सचमुच बहुत मायने करती हैं . अपनी प्राथमिकता सेट कीजिये. बाकी चीजें बस रेत हैं.”

अगर आपको यह लेख अच्छा लगा हो तो इसे फेसबुक और व्हाट्सएप्प पर जरूर शेयर करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़ी रहें आपकी अपनी वेबसाइट Best Wishes हिंदी  के साथ।

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here